Category Archives: थारू मुक्तक

थारू भाषी मुक्तक : मीठ मीठ गाला मर्ली

~चित्र लक्ष्मी~ पहिल भ्याँटम मीठ मीठ गाला मर्ली द्वासर भ्याँटम निंगारके प्याला भर्ली लौक लौक लौकती रह हमार प्रेमनैया-

Posted in थारू मुक्तक | Tagged , , , | Leave a comment

थारू भाषी मुक्तक : सिम फे किन्देनु

~सगर कुस्मी~ तुहिनसे बाट कारक लग सिम फे किन्देनु गलेम लागेन पाउडर, क्रिम फे किन्देनु अकेली रहो संग नै पके

Posted in थारू मुक्तक | Tagged , , , | Leave a comment

थारू भाषी मुक्तक : सडकमे अइठाँ

~छविलाल कोपिला~ कबो जाति विरोधी कबो अतिजाति सडकमे अइठाँ देखो यहाँ घेंघा फुलैटी उहे राष्ट्रघाती सडकमे अइठाँ यी देशके शासक ओस्ते हम्रहिन भेंरी नै कहल हुइही

Posted in थारू मुक्तक | Tagged , , , | Leave a comment

थारू भाषी मुक्तक : महजन्वक् ऋण चुकाब

~सत्यनारायण दहित~ प्रदेशसे आइतुँ डाई आब महजन्वक् ऋण चुकाब । लावा चोलिया गोनियाँ किने हसुलिया बजार जाब । बर्का बन्वम खर काटे बाबै आब जाई नै परहींन,

Posted in थारू मुक्तक | Tagged , , , | Leave a comment

थारू भाषी मुक्तक : बञ्जरभूमि

~छविलाल कोपिला~ बिना कारण हमार वस्ती बगाजाइठ् ओस्ते यहाँ रातारात आगी लगाजाइठ् हेरो ! यी बञ्जरभूमि,

Posted in थारू मुक्तक | Tagged , , , | Leave a comment

थारू भाषी मुक्तक : ख्वाजल बाटु

~राम पछलदङग्याँ अनुरागि~ पह्रल लिखल निपतीत लाती ख्वाजल बाटु मनक पिर दुख बुझ्ना छाती ख्वाजल बाटु संघ मुना संघ जीना सहारा जिन्दगी भर

Posted in थारू मुक्तक | Tagged , , , | Leave a comment