Category Archives: अवधी गजल

अवधी भाषी गजल : अपकी चुनाव मे

~अजय पाण्डे~ अजमाइहैं सब आपन आपन हथकण्ड ,अपकी चुनाव मे चली फिरसे लाठी और डंडा , अपकी चुनाव मे केहू खरिदी वोट तो केहू देखाई धौस , जाने केतना पुजैहैं पंडित और पंडा,अपकी चुनाव मे

Posted in अवधी गजल | Tagged , , , | Leave a comment

अवधी कविता : मननीय

~अजय पाण्डे~ देश कय अवस्था एकदम दयनीय होइगय कल कय गुन्डा जब से मननीय होइगय पढाल लिखल देखो सब भैँस चरवय अव बिन पढ़ा सब कै सम्मनीय होइगय

Posted in अवधी गजल | Tagged , , , | Leave a comment